चप्पल बनाने का व्यापार कैसे शुरू करें | How to Start Slipper Making Business Plan in Hindi

तो अगर आप चप्पल का व्यापार शुरू कर देते हैं तब आप हर महीने लाखों रुपए कमा सकते हैं क्योंकि यह एक ऐसा प्रोडक्ट है जिसकी मांग मार्केट में हमेशा बनी रहेगी.

आज हम इस पोस्ट में जानेंगे कि Chappal Ka Business Kaise Kare ताकि हम अपने खुद का चप्पल का व्यापार कर के पैसे कमा सके .

हिंदी में स्लिपर मेकिंग (विनिर्माण) बिजनेस प्लान कैसे शुरू करें (लाइसेंस, लागत, लाभ, पैकेजिंग, मार्केटिंग)

स्लीपर एक आरामदायक स्लीपर है, जिसे लोग घर के अंदर इस्तेमाल करते हैं। हालांकि, कुछ स्लीपर ऐसे भी होते हैं जिन्हें घर के बाहर भी पहना जा सकता है। बाजार में तरह-तरह के स्लीपर बिकते हैं। कई छोटी-बड़ी कंपनियां इसे बनाकर काफी मुनाफा कमाती हैं। आप भी इस बिजनेस की मदद से हर महीने अच्छी खासी कमाई करने में सफल हो सकते हैं। इस व्यवसाय को स्थापित करने से संबंधित सभी आवश्यक जानकारी दी जाएगी।

यह भी पढ़े: स्ट्रॉबेरी की खेती स्ट्रॉबेरी की खेती की कैसे करें?

Table of Contents

स्लिपर मेकिंग बिजनेस प्लान शुरू करें (Slipper Making Business Plan)

चप्पल बनाने के बिजनेस से मिलता है लाखों रुपए का मुनाफा, जानिए इस बिजनेस को करने से आपको क्या होगा फायदा –

चप्पल बनाने के लिए ज़रूरी चप्पल बनाना कच्चा माल (Slipper Making Raw Material)

कच्चे माल में हवादार रबड़ की चादरें (रुपये 350 प्रति शीट, पट्टियाँ चादरें (4 रुपये प्रति मीटर) और पैकिंग के लिए आवश्यक सामान (15- 40 रुपये प्रति यूनिट) आदि की आवश्यकता होती है।

See also  इंजीनियरिंग के बाद क्या करें? [व्यवसाय] हिंदी में इंजीनियरिंग बिजनेस आइडिया के बाद

चप्पल बनाने के लिए कच्चा माल कहां खरीदें ,कच्चा माल कहां से खरीदें) (where to Buy Raw Materials)

यह कच्चा माल इन ऑनलाइन वेबसाइटों के माध्यम से मंगवाया जा सकता है।

  • https://www.indiamart.com/
  • https://india.alibaba.com/index.html

चप्पल बनाने के लिए चप्पल बनाने की मशीन

इस व्यवसाय के लिए आवश्यक मशीनों के नाम इस प्रकार हैं।

1 हाथ से संचालित एकमात्र काटने की मशीन
2 छेद बनाने की मशीन
3 फिनिशिंग / पीसने की मशीन
4 विभिन्न रंगों और आकारों के लिए काटने की मशीन मरो
5 हाथ से संचालित उपकरण

यह भी पढ़े: बर्फ फैक्ट्री कैसे लगाएं (लागत, कीमत) ?

चप्पल बनाने के लिए मशीन कहां से खरीदें (Where to Buy Slipper Making Machine)

आप नीचे दिए गए लिंक पर संपर्क करके उपरोक्त सभी मशीनें आसानी से प्राप्त कर सकते हैं।

  • https://www.indiamart.com/
  • https://india.alibaba.com/index.html

चप्पल बनाने के लिए मशीन का कीमत (Slipper Making Machine Price)

चप्पल बनाने के व्यवसाय में सभी मशीनों को एक सेट में खरीदना आवश्यक है। इसके लिए व्यापारी कुल रु. 35,000 से 40,000 लागत तक।

यदि व्यापार बड़े पैमाने का हो तो मशीन की कीमत :

मशीन कीमत
एकमात्र काटने की मशीन 1 लाख रुपये
छेदन यंत्र रु 12000 – रु 14000
पट्टा मशीन रुपये 7,000
चक्की रुपये 8,000
रंग 700 रुपये

यह भी पढ़े: छाता बनाने का बिजनेस कैसे शुरू करें?

चप्पल निर्माण प्रक्रिया (Slippers Manufacturing Process in Hindi)

सबसे पहले आपको रबर शीट को सोल कटिंग मशीन की मदद से काटने की जरूरत है। ध्यान रहे कि आप पूरी शीट को एक ही पासे से काट लें।

  1. यदि मशीन उच्च गुणवत्ता की हो तो कटिंग के दौरान फीते की जगह चप्पलों में छेद हो जाते हैं। इसे काटने के बाद पिसाई मशीन इसकी मदद से स्लीपर के आसपास के खुरदुरे हिस्से को समतल किया जाता है।
  2. चप्पल काटने के बाद उसे प्रिंट करना होता है। इसकी लागत बहुत कम है।
  3. एक बार चंदन प्रिंट हो जाने के बाद इसे कुछ देर के लिए सूखने के लिए छोड़ दिया जाता है। जब यह सूख जाए ड्रिलिंग मशीन इसकी सहायता से आवश्यक स्थानों पर बने छिद्रों को बड़ा किया जाता है।
  4. फिर पट्टा डालने की मशीन (हाथ ऑप रेटेड टूलकी सहायता से इसमें फीते डाले जाते हैं।
  5. इस तरह आप स्लीपर तैयार कर बाजार में बिक्री के लिए भेज सकते हैं।
See also  जैविक खाद का बिजनेस कैसे शुरू करें? | Jaivik Khad ka Business Kaise Kare

चप्पल बनाने के धंधे के लिए चप्पल बनाने के व्यवसाय के लिए लाइसेंस (Licence for Slipper Making Business)

यदि आप इस व्यवसाय को छोटे पैमाने पर शुरू कर रहे हैं तो सबसे पहले आपको उद्योग आधार या भारत सरकार से गुजरना होगा। एमएसएमई के तहत अपना व्यवसाय पंजीकृत करें करना होगा इसके अलावा, आपको अपना ब्रांड रजिस्टर करना होगा आईएसआई के तहत दायर होने के लिए आपको व्यवसाय को सुचारू रूप से चलाने के लिए एक ट्रेड लाइसेंस की आवश्यकता होती है।फर्म का चालू बैंक खाता, पैन कार्ड आदि भी तैयार करने होंगे।

चप्पल के लिये पैकेजिंग (Slipper Packaging)

इसकी पैकेजिंग के लिए आप कार्टून का इस्तेमाल कर सकते हैं। आपके द्वारा बनाए गए स्लीपर के आकार के अनुसार आपको कार्टून प्राप्त करने की आवश्यकता है। अपने चंदन के पैकेट को आकर्षक बनाने के लिए आप उस पर तरह-तरह के रंग-बिरंगे स्टिकर्स लगा सकते हैं। इसके अलावा आप ब्रैंड का स्टिकर पैकेजिंग को कार्टून पर चिपकाया जा सकता है।

यह भी पढ़े: जिम बिजनेस कैसे शुरू करें?

चप्पल बनाने के धंधे के लिए चप्पलों के लिए मार्केटिंग योजना (Marketing Plan for Slippers)

आप अपने स्लीपर की मार्केटिंग शहर के सभी बड़े और छोटे चंदन के जूतों की दुकानों में कर सकते हैं। आप अपने स्लीपर को विभिन्न बड़े शॉपिंग मॉल में भी ले जाकर बहुत आसानी से अपना व्यवसाय बढ़ा सकते हैं। साथ ही, आप रेडियो, अखबार, होर्डिंग, पोस्टर आदि के जरिए अपनी चप्पलों का प्रचार कर सकते हैं।

चंदन व्यवसाय स्थापित करने के लिए आवश्यक स्थान

इस बिजनेस को शुरू करने के लिए आपको थोड़ी और जगह चाहिए। चूँकि इस व्यवसाय को चलाने के लिए विभिन्न प्रकार की मशीनों का प्रयोग किया जाता है, इसलिए इसके लिए आपको न्यूनतम 300 वर्ग मीटर स्थान की आवश्यकता है।

चप्पल बनाने की व्यवसाय लागत 

आपके व्यवसाय का पैमाना इस व्यवसाय को चलाने की कुल लागत तय करता है। यहां हम छोटे और बड़े दोनों स्तरों पर व्यवसाय की कुल लागत का वर्णन करते हैं।

  • इस व्यवसाय को छोटे स्तर पर स्थापित करने के लिए कम से कम कम 1 लाख रुपए राशि की आवश्यकता है।
  • अगर आप इस बिजनेस को बड़े पैमाने पर करना चाहते हैं तो आप 5-6 लाख की राशि जमा करना पड़ सकता है।
See also  मोबाइल एप बनाकर पैसे कैसे कमाए। मोबाइल ऐप से पैसे कैसे कमाए हिंदी में

चंदन बनाने के व्यवसाय से लाभ (Slipper Making Business Profit)

आम तौर पर एक स्लीपर कुल बनाता है लागत रु. 30 से 40 का है। यह स्लीपर बाजार में कुल 90-100 रुपये में बिकता है। अगर आप इस मशीन की मदद से दिन में 12 घंटे स्लीपर बनाते हैं तो पूरे दिन छोटे पैमाने पर 100 दर्जन और बड़े स्तर के बारे में 250 दर्जन यानी 3500 से 4000 स्लीपर बनाया जा सकता है। इसलिए छोटे पैमाने पर इस व्यवसाय की मदद से लगभग 10000 प्रति माह और बड़े पैमाने पर 30,000 से 40,000 रुपये अर्जित किया जा सकता है।

चप्पल बनाते समय चप्पल बनाने में सावधानियां

इस व्यवसाय में पहली सावधानी गुणवत्ता से संबंधित होनी चाहिए। बाजार में रबड़ की चादरें भी कम दामों पर उपलब्ध हैं, जिनकी गुणवत्ता अच्छी नहीं है। अगर आप उनकी मदद से चप्पल बनाते हैं तो आपकी चप्पलों की मार्केटिंग ठीक से नहीं हो पाएगी। स्लीपर को रबर शीट से काटते समय इस बात का ध्यान रखना आवश्यक है कि स्लीपर बेहतर आकार में कटे हों। इसके अलावा जहां आपको स्लीपर बनाना है वहां बिजली की सुरक्षित व्यवस्था करनी चाहिए।

यह भी पढ़े: ट्रैवल एजेंसी बिज़नेस कैसे करें?

FAQs – Slipper Manufacturing Business Ideas in Hindi

  1. चप्पल बनाने का बिजनेस कैसे शुरू करें?

    chappal ka business kaise shuru karen : सबसे पहले चप्पल बनाने के लिए उचित स्थान की व्यवस्था करें फिर आवश्यक मशीनरी को ऑनलाइन या ऑफलाइन मंगवाए और उन्हें स्थापित करें. सेलर से मशीनरी का उपयोग एक दो बार सीखे , अब आप खुद बनाना शुर करें. जब आप चप्पल बनाने लग जाओ तो इनकी पैकिंग करें और बाजार में बेचें.
    इस लेख में चप्पल बनाने के व्यापार के बारें में विस्तार से बताया गया है. आप पढ़ सकते हैं

  2. हवाई चप्पल का रॉ मटेरियल कहाँ मिलता है?

    हवाई चप्पल का रॉ मटेरियल आजकल ऑनलाइन आसानी से मिल जाता है, आप INDIAMART पर आसानी से सर्च कर इसे मंगवा सकते हो.

  3. हवाई चप्पल रॉ मटेरियल की लागत क्या है?

    (अनुमानित) रॉ मटेरियल(कच्चे माल) में हवाई रबर शीट्स जो 350 प्रति शीट , स्ट्रैप्स शीट्स 4 प्रति मीटर की दर से

  4. स्लीपर चप्पल बनाने की मशीन कहां मिलती है?

    स्लीपर चप्पल बनाने की मशीन ऑनलाइन आसानी से मिल जाती है, इसे आप INDIAMART से डायरेक्ट मैन्युफैक्चरर से खरीद सकते हो, या उनसे सम्पर्क कर के, उनके स्थान पर जाकर भी ला सकते हो. ऑनलाइन सप्लायर की बड़ी लिस्ट है, आप सर्च करोगे तो बहुत से सेलर आपको मिल जाएंगे.

  5. चप्पल बनाने वाली मशीन की कीमत कितनी हैं?

    मशीनें बहुत प्रकार की आती है, जिसमें छोटी, मध्यम और बड़ी मशीनें शामिल है. अगर आप छोटी मशीने खरीदते हो तो ये लगभग 50 हजार तक आसानी से मिल जाती हैऔर आप बड़े स्तर पर करते होतो 2 से 3 लाख रूपये लग जाते है.

  6. चप्पल बनाने के लिए कौन-कौन सी मशीने चाहिए?

    सोल कटिंग मशीन , स्लिपर ड्रिल मशीन, स्लिपर स्ट्रैप फिटिंग मशीन, सोल ग्राइंडर मशीन, सोल कटिंग डाई

  7. हवाई चप्पल कैसे बनती है?

    सबसे पहले डाई की मदद से सोल काटा जाता है फिर ड्रिल से स्ट्रेप डालने के होल किए जाते, होल होने के बाद स्ट्रेप डाली जाती है और इस तरह एक चप्पल तैयार होती है. विस्तार से जानने के लिए लेख में पढ़ें.