वाहन प्रदूषण जांच केंद्र कैसे खोले | Vahan Pradushan Janch kendra kaise khole in hindi (PUC Center)

अगर आप कम निवेश में पैसा कमाना चाहते हैं तो वाहन प्रदूषण जांच केंद्र बिजनेस आइडिया आपके लिए है। हाल ही में भारत सरकार ने वाहनों के लिए प्रदूषण प्रमाणपत्र अनिवार्य कर दिया है। आप प्रदूषण परीक्षण केंद्र खोलकर निवेश कर सकते हैं और पैसा कमा सकते हैं।

वाहन प्रदूषण जांच केंद्र कैसे खोलें (मशीन मूल्य, प्रमाणपत्र, ऑनलाइन आवेदन, पात्रता, निवेश लागत) (वाहन प्रधान जन केंद्र कैसे खोले हिंदी में) (पीयूसी केंद्र) (ऑनलाइन आवेदन करें, मेरे पास, कैसे खोलें, निवेश, पात्रता, प्रक्रिया, आइटम,

आज के समय में लगभग सभी जगहों पर वाहन प्रदूषण जांच केंद्र की मांग दिनों दिन बढ़ती जा रही है. जिसका मुख्य कारण भारत सरकार ने वर्ष 2019 के दिसंबर माह में नया वाहन अधिनियम जारी किया है। इस नए अधिनियम के तहत यदि कोई वाहन मालिक या चालक वाहन से संबंधित सभी प्रकार के दस्तावेजों के साथ नहीं पाया जाएगा। तो ऐसी स्थिति में चालक या मालिक को कानूनी सजा के प्रावधान के अलावा भारी जुर्माना भी भरना पड़ सकता है। अधिनियम में जोड़ा गया है। अब सभी वाहनों के मालिकों या चालकों के पास अपने वाहन का प्रदूषण परीक्षण प्रमाणपत्र होना जरूरी है। ऐसे में अगर आप वाहन प्रदूषण जांच केंद्र खोलते हैं तो आप आसानी से हर महीने 40 से 50 हजार रुपए कमा सकते हैं। इससे जुड़ी सारी जानकारी आपको इस लेख में मिल जाएगी।

यह भी पढ़े: हल्दीराम की सफलता की कहानी

Table of Contents

क्या है प्रदूषण जांच केंद्र

प्रदूषण जांच केंद्र के माध्यम से सभी वाहन मालिक और चालक अपने वाहन का प्रदूषण प्रमाण पत्र बनवा सकते हैं। इस सर्टिफिकेट से पता चलता है कि कौन सा वाहन पर्यावरण को प्रदूषित कर रहा है। वाहन के लिए जितने भी दस्तावेजों की आवश्यकता होती है, उनमें वाहन प्रदूषण प्रमाण पत्र भी होता है। वाहन प्रदूषण प्रमाण पत्र प्रदूषण जांच केंद्र के माध्यम से ही बनाया जा सकता है, यदि यह एक महत्वपूर्ण दस्तावेज नहीं है, तो आपको सरकार से जुर्माना और कुछ कानूनी दंड का सामना करना पड़ सकता है।

See also  इलेक्ट्रिक स्विच [Electrical Switches] सॉकेट, प्लग बनाने का बिजनेस || Switch Plug Making Business in Hindi, Price, Profit

क्या है नया मोटर व्हीकल एक्ट

दिसंबर 2019 के महीने में भारत सरकार ने नया Motor Vehicle Act लागू किया है. इस नए मोटर अधिनियम के तहत भारत सरकार ने वाहन के सभी चालकों और मालिकों के लिए अपने वाहन से संबंधित सभी प्रकार के दस्तावेज बनाना अनिवार्य कर दिया है। इस अधिनियम के तहत यदि किसी वाहन के चालक के पास उसके वाहन से संबंधित कोई दस्तावेज नहीं पाया जाता है तो सरकार ने उस पर आवश्यक कार्रवाई के साथ-साथ जुर्माना आदि देने का प्रावधान भी जारी किया है. इसलिए अब यह प्रमाण पत्र सभी वाहन चालकों और वाहन मालिकों के पास होना जरूरी है।

वाहन प्रदूषण परीक्षण केंद्र खोलने के लिए आवश्यक शर्तें

यदि आप वाहन प्रदूषण जांच केंद्र खोलना चाहते हैं तो आप इसे कुछ शर्तों के अनुसार आसानी से खोल सकते हैं, जो इस प्रकार है।

  • यदि आप एक नया प्रदूषण जांच केंद्र खोलना चाहते हैं, तो सबसे पहले आपको अपने नजदीकी आरटीओ कार्यालय से अनापत्ति प्रमाण पत्र प्राप्त करना होगा।
  • आप इस परीक्षा केंद्र को किसी भी समय कॉल कर सकते हैं पेट्रोल पंप ऑटो मोबाइल वर्कशॉप बिना किसी रुकावट के खोली जा सकती है।
  • वाहन प्रदूषण परीक्षण केंद्र का लाइसेंस प्राप्त करने के बाद 1 वर्ष के बाद इसे फिर से नवीनीकृत करना होगा। मतलब इस लाइसेंस का हर साल नवीनीकरण कराना अनिवार्य है।
  • आपके प्रदूषण परीक्षण केंद्र का केबिन पीले रंग का होना चाहिए। जिसकी लंबाई, चौड़ाई और ऊंचाई क्रमश: 2.5 मीटर, 2 मीटर और 2 मीटर होनी चाहिए।
  • अपने प्रदूषण परीक्षण केंद्र में अपना लाइसेंस नंबर दर्ज करना अनिवार्य है।
  • आप अपने केंद्र से उचित ड्राइवर और मालिक को प्रदूषण प्रमाण पत्र जारी करेंगे, जिसमें आपके लिए सरकार द्वारा प्रदान किया गया स्टिकर लगाना अनिवार्य होगा।
  • जिन वाहनों को आप अपने केंद्र के माध्यम से प्रमाण पत्र जारी करेंगे, उन सभी वाहनों का विवरण 1 वर्ष तक सुरक्षित रखना अनिवार्य है।
  • जिस नाम से प्रदूषण जांच केंद्र का प्रमाण पत्र जारी किया जाएगा, वही व्यक्ति वाहन के प्रदूषण की जांच करेगा और चालक को प्रमाण पत्र प्रदान करने का कार्य करेगा।
See also  मखाने की खेती कैसे करें, तरीका (Fox Nut Farming Business in Hindi)

यह भी पढ़े: वेडिंग प्लानर बिज़नेस शुरू करें?

वाहन प्रदूषण परीक्षण केंद्र खोलने के लिए प्रयुक्त उपकरण

वाहन प्रदूषण परीक्षण केंद्र खोलने से पहले, आपको कुछ महत्वपूर्ण उपकरणों की आवश्यकता होगी, जिसके उपयोग से आप वाहन के प्रदूषण की जांच करेंगे और उसी आधार पर उसे एक प्रमाण पत्र जारी करेंगे। जानिए, प्रदूषण जांच केंद्र खोलने के लिए आपको किन उपकरणों की जरूरत पड़ेगी, जो इस प्रकार है।

  • लैपटॉप या कंप्यूटर की आवश्यकता होगी।
  • एक अच्छी स्पीड इंटरनेट कनेक्शन की आवश्यकता होगी।
  • USB वेबकैम की आवश्यकता होगी।
  • बिजली की आपूर्ति की आवश्यकता होगी।
  • आपको धूम्रपान विश्लेषक की आवश्यकता होगी।
  • एक एजेंट प्रिंटर की भी आवश्यकता होगी।

वाहन प्रदूषण जांच केंद्र खोलने की पात्रता – eligibility Criteria for Vahan Pradushan Janch Kendra

वाहन प्रदूषण परीक्षण केंद्र खोलने के लिए आपके पास कुछ आवश्यक प्रमाण पत्र होने चाहिए, तभी आप इस परीक्षण केंद्र को आसानी से खोल सकते हैं, अन्यथा आप इसे खोलने के लिए अपात्र माने जाएंगे।

  • ऑटोमोबाइल इंजीनियरिंग सर्टिफिकेट
  • मोटर मैकेनिक प्रमाणपत्र
  • ऑटो यांत्रिकी प्रमाण पत्र
  • स्कूटर यांत्रिकी प्रमाणपत्र
  • औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान से प्रमाणित प्रमाण पत्र
  • डीजल यांत्रिकी प्रमाणपत्र

प्रदूषण परीक्षण केंद्र खोलने के लिए लाइसेंस व पंजीकरण प्रक्रिया

वाहन प्रदूषण केंद्र खोलने के लिए सबसे पहले आपको अपने केंद्र का लाइसेंस और रजिस्ट्रेशन करवाना होगा। वाहन प्रदूषण केंद्र का लाइसेंस प्राप्त करने के लिए आपको अपने नजदीकी आरटीओ कार्यालय में जाकर इसके बारे में विवरण देना होगा और आपको प्रदूषण परीक्षण केंद्र की आधिकारिक वेबसाइट पर पंजीकरण की प्रक्रिया मिल जाएगी।

यह भी पढ़े: आर्गेनिक फ़ूड स्टोर कैसे शुरू करें?

वाहन प्रदूषण जांच केंद्र कैसे शुरू करें

  • वाहन प्रदूषण परीक्षण केंद्र शुरू करने के लिए हमें किसी भी प्रकार के अधिक निवेश की आवश्यकता नहीं है। इसे हम बहुत ही कम से कम निवेश के साथ आसानी से शुरू कर सकते हैं और अच्छा पैसा कमा सकते हैं।
  • वाहन प्रदूषण केंद्र खोलने के लिए हमें एक जगह की जरूरत होती है और इसके साथ ही हमें इसे खोलने के लिए कुछ उपकरणों की भी मदद लेनी पड़ती है।
  • इसके बाद हमें अपने क्षेत्र के आरटीओ कार्यालय में जाकर वाहन प्रदूषण जांच केंद्र का लाइसेंस प्राप्त करना होगा, और ऐसा करने के बाद वाहन प्रदूषण केंद्र की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर वाहन प्रदूषण केंद्र प्राप्त करने के लिए हमारा ऑनलाइन आवेदन आपके प्रदूषण केंद्र को पंजीकृत करने के लिए होगा। करना पड़ेगा।
See also  फ्रेंचाइजी कंपनियों के नाम और व्यवसाय कैसे करें?

वाहन प्रदूषण जांच केंद्र खोलने के लिए ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया

  • वाहन प्रदूषण केंद्र खोलने के लिए सबसे पहले हमें राष्ट्रीय राजमार्ग परिवहन की जरूरत है। आधिकारिक वेबसाइट और फिर वहां हमें अपना आवेदन करना होगा।
  • राष्ट्रीय राज्य सड़क परिवहन की आधिकारिक वेबसाइट पर जाने के बाद आपको “नया पुराना पीयूसी केंद्र” नाम का एक विकल्प दिखाई देगा, उस पर आपको क्लिक करना है।
  • अब यहां आपको एक आवेदन पत्र मिलेगा, जिसके माध्यम से आप वाहन प्रदूषण केंद्र खोलने के लिए आवेदन करेंगे।
  • इस फॉर्म में आपको पूछी जा रही जानकारी के साथ बहुत ही सावधानी से भरना होगा। इसे भरने के बाद यहां पर आपको “Registered” का आप्शन मिलेगा उस पर आपको क्लिक करना है।
  • इतना करने के बाद आपका आवेदन आसानी से पूरा हो जाता है।

यह भी पढ़े: कपड़े की सिलाई का व्यवसाय कैसे शुरू करें?

वाहन प्रदूषण केंद्र खोलने की लागत

भारत के हर राज्य में वाहन प्रदूषण जांच केंद्र खोलने का शुल्क अलग-अलग निर्धारित किया गया है, अगर हम दिल्ली एनसीआर की बात करें तो यहां आपको सुरक्षा शुल्क 5 हजार और लाइसेंस शुल्क 5000 देना होगा। यानी आप आसानी से खोल सकते हैं। सिर्फ 10 हजार रुपये के निवेश से दिल्ली एनसीआर में कहीं भी एक वाहन प्रदूषण परीक्षण केंद्र। इसलिए इस सेंटर को खोलने के लिए आपको सिर्फ 5 से 10 हजार रुपये का ही निवेश करना होगा।

वाहन प्रदूषण केंद्र खोलने के लाभ

यदि आप वाहन प्रदूषण केंद्र खोलते हैं तो आप इस केंद्र के माध्यम से आसानी से एक से दो हजार रुपये प्रतिदिन और 40 से 50 हजार रुपये प्रति माह आसानी से कमा सकते हैं।

वाहन प्रदूषण केंद्र खोलने का खतरा

आज के समय में ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों में वाहन प्रदूषण केंद्र की मांग दिन-ब-दिन बढ़ती जा रही है, इसलिए इस दृष्टिकोण से आप इस व्यवसाय को बहुत आसानी से और बिना जोखिम के शुरू कर सकते हैं। यह एक ऐसा बिजनेस है जो कभी खत्म नहीं होगा और इसकी मांग समय के साथ ही बढ़ेगी।

इस प्रकार आप न केवल प्रमाण-पत्र धारण करने की समस्या को कम कर लोगों की मदद कर रहे हैं, बल्कि आपको इसका भरपूर लाभ भी मिल रहा है।

यह भी पढ़े: तेल की मिल का व्यापार कैसे शुरू करें?

सामान्य प्रश्न

प्रश्न: क्या हमें वाहन प्रदूषण केंद्र खोलने के लिए किसी विशेष शिक्षा की डिग्री की आवश्यकता है?

उत्तर: नहीं, लेकिन इसके लिए आपका ग्रेजुएट होना जरूरी है।

क्यू वाहन प्रदूषण केंद्र कहाँ खोलें?

उत्तर: आप छोटे शहरों और बड़े शहरों में कहीं भी वाहन प्रदूषण केंद्र खोल सकते हैं।

क्यू : वाहन प्रदूषण केंद्र खोलने के लिए कितना निवेश करना होगा?

उत्तर: मात्र 5 से 10 हजार रुपए।

क्यू : वाहन प्रदूषण केंद्र खोलकर हम प्रति माह कितना कमा सकते हैं?

उत्तर: 40 से 50 हजार रु.

प्रश्न: वाहन प्रदूषण केंद्र खोलने के लिए कौन से लाइसेंस और पंजीकरण की आवश्यकता है?

उत्तर: हाँ बिल्कुल।